हैप्पी सीडर का उपयोग करके जूट की खेती: पश्चिम बंगाल के तराई क्षेत्र में एक सफल प्रयास

पश्चिम बंगाल में उगाई जाने वाली प्रमुख नकदी फसलों में से एक जूट, लगभग 5.15 लाख हेक्टेयर भूमि पर उगाई जाती है जो देश के कुल उत्पादन का लगभग तीन-चौथाई हिस्सा है। पश्चिम बंगाल के तराई अंचल की लोकप्रिय फसल प्रणाली जूट-चावल मुख्य रूप से सीमांत और छोटे किसानों द्वारा उगाई जाती है। राज्य के तराई जोन में मानसून पूर्व सीजन के दौरान कभी-कभार बारिश के साथ गर्म आर्द्र जलवायु फसल के लिए बहुत उपयुक्त होता है। लेकिन, रबी मक्का को अपनाने में वृद्धि के कारण जूट के तहत आने वाला क्षेत्र धीरे-धीरे प्रदेश के तराई क्षेत्र में कम हो गया है। बिचौलियों द्वारा फ़ाइबर के विपणन पर नियंत्रण किसानों को लाभकारी मूल्य प्राप्त करने से वंचित करता है।

Jute cultivation using Happy Seeder: A successful attempt in Terai Region of West Bengal  Jute cultivation using Happy Seeder: A successful attempt in Terai Region of West Bengal

2014-15 में उत्तर बंग कृषि विश्वविद्यालय (यूबीकेवी) के वैज्ञानिकों ने सीआईएमएमवाईटी के सहयोग से ऑस्ट्रेलियन सेंटर फॉर इंटरनेशनल एग्रीकल्चर रिसर्च (एसीआईएआर) वित्त पोषित परियोजना के तहत "पूर्वी गंगा मैदानों में सतत और अनुकूल कृषि प्रणाली गहनता (एसआरएफएसआई)” नामक परियोजना की शुरुआत की थी, जिसके अंतर्गत विभिन्न फसलों में संरक्षण कृषि (सीए) प्रथाओं को लोकप्रिय बनाने पर कई सहभागी परीक्षण किए। इसके अनुसार 2017-18 में सीए-जूट के लिए प्रोटोकॉल का मानकीकरण किया गया और क्षेत्र के विभिन्न किसानों के खेतों में इस प्रोटोकॉल का सफलतापूर्वक प्रदर्शन किया गया।

Jute cultivation using Happy Seeder: A successful attempt in Terai Region of West Bengal  Jute cultivation using Happy Seeder: A successful attempt in Terai Region of West Bengal

कृषि विभाग, पश्चिम बंगाल सरकार और कृषि पर काम करने वाले स्थानीय गैर सरकारी संगठन सतमाइल सतीश क्लब एंड पथगर (एसएसीओपी) के सक्रिय सहयोग से पिछले 2-3 वर्षों से जूट में शून्य जुताई तकनीक से किसानों को लाभ मिला। शुरू में किसानों को बहु-फसल बोने वाले का उपयोग करके शून्य जुताई के बिना जूट की फसल का परीक्षण करने के लिए समझाना बहुत चुनौतीपूर्ण था, लेकिन उनके क्षेत्र में सफल प्रदर्शन ने उन्हें इस लाभकारी शून्य जुताई प्रौद्योगिकी पर टिके रहने के लिए आकर्षित किया। खासकर जब किसानों को श्रम की कमी के वर्तमान परिदृश्य के तहत श्रम को कम करने वाली प्रौद्योगिकियों की सख्त जरूरत है।

मशीनीकरण बढ़ने के साथ ही किसानों ने पिछले कुछ सालों से संयुक्त अनाज काटने वाले का इस्तेमाल भी शुरू कर दिया। पूर्ववर्ती गेहूँ की फसल में इसके उपयोग ने किसानों को जूट की फसल बोने से पहले खेत की सफाई हेतु उसे जलाने के लिए मजबूर किया। हैप्पी सीडर्स के फ़ायदों को ध्यान में रखते हुए, यूबीकेवी के वैज्ञानिकों ने जूट सीडिंग के लिए इसे ठीक करने की कोशिश की, जो संभवत: भारत में इसके साथ जूट बोने का पहला प्रयास था।

इस वर्ष कूच बिहार जिले के विभिन्न प्रखंडों के 25 किसानों को शामिल करते हुए 10 एकड़ भूमि पर प्रदर्शन किया गया। स्थानीय एनजीओ, एसएससीओपी भी डीएपी, ऑस्ट्रेलियन महावाणिज्य दूत, कोलकाता द्वारा समर्थित एक परियोजना के माध्यम से ठूँठ पलवार की समस्या को संबोधित कर रहा था, जहाँ यूबीकेवी ने तकनीकी बैकस्टॉपिंग प्रदान की थी। चयनित किसानों को पहले से ही शून्य जुताई तकनीक से अवगत कराया गया था और उनमें से अधिकांश पिछले दो वर्षों से जूट में भी बहु-फसल बोने की मशीनों के साथ इसका अभ्यास कर रहे थे। प्रौद्योगिकी से पता चला कि प्रति एकड़ खेती की लागत 20,250 रुपए/एकड़ तक सीमित की जा सकती है जो पारंपरिक विधि से 5,280.00 रुपए कम थी। यहाँ तक कि हैप्पी सीडर के उपयोग से बहु-फसल बोने की मशीनों का उपयोग करके शून्य जुताई प्रौद्योगिकी से 1,980.00 रुपए प्रति एकड़ से अधिक की बचत करने में मदद मिली।

जूट में हैप्पी सीडर तकनीक से होसेनारा बीबी, बिजय रॉय, रामेन बर्मन, भाबतोश पटवारी सहित कूच बिहार के अन्य प्रदर्शन करने वाले किसानों को अच्छी पैदावार और अधिक मुनाफे के साथ-साथ पर्यावरणीय प्रभावों पर महत्त्वपूर्ण सकारात्मक प्रभाव के मामले में भारी संतुष्टि मिल रही है। कोविड-19 महामारी के दौरान भी जूट किसानों ने प्रदर्शन के जगहों का दौरा किया। इस तकनीक में खेती की लागत काफी कम हो गई है जिसने कई और किसानों को आकर्षित किया। यह तकनीक सरकार के सक्रिय सहयोग से क्षेत्र के कई जूट किसानों तक पहुँचेगी।

(स्रोत: उत्तर बंग कृषि विश्वविद्यालय, पश्चिम बंगाल)