सी. आई. एफ. आर. आई. ने पश्चिम बंगाल के नबद्वीप में मछुआरों के साथ नदी में पशुपालन जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया

6 नवंबर, 2018, नबद्वीप, पश्चिम बंगाल

आई. सी. ए. आर. - सेंट्रल इनलैंड मत्स्य अनुसंधान संस्थान ने 6 नवंबर, 2018 को स्वरुपगंज घाट, नबद्वीप, नादिया, पश्चिम बंगाल में 'नमामि गंगे' कार्यक्रम के तहत मछुआरों के साथ नदी में पशुपालन जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया।

डॉ. बी. के. दास, निदेशक, सी. आई. एफ. आर. आई. ने अपने वक्तव्य में मछुआरों से आग्रह किया कि मछलियों के भंडारण को बहाल करने के लिए तथा उसके विकास और उसके तादाद में वृद्धि के लिए उपयुक्त प्रबंधन रणनीति को अपनाएँ। उन्होंने मछुआरों से प्लास्टिक और अन्य अपशिष्ट पदार्थों के अपवहन को रोकने व नदी प्रदूषण मुक्त करने में गंगा के निर्मल धरा में सक्रिय रूप से भाग लेने का भी अनुरोध किया।

कार्यक्रम के दौरान, श्रीमान पुंडारिकक्ष्य साहा, स्थानीय विधायक (नबद्वीप),  श्रीमान सिराजुल शेख, प्रधान, स्वरूपगंज ग्राम पंचायत, ने कार्यक्रम को प्रोत्साहित करते हुए बेहतर नदी प्रबंधन के लिए केंद्रीय, राज्य और स्थानीय प्रशासन के बीच समन्वय में सुधार करने की आवश्यकता पर बल दिया।

150 से अधिक स्थानीय सक्रिय मछुआरों और उनके परिवार के सदस्यों ने कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम के एक हिस्से के रूप में, कलबासु, मृगल और रोहु जैसे मछलियों के 03 लाख बीज पवित्र इस्कॉन मंदिर, मायापुर के सामने से भागीरथी (गंगा) में जारी किए गए।

 

(स्रोत: आई. सी. ए. आर. - सेंट्रल इनलैंड मत्स्य अनुसंधान संस्थान, नबद्वीप, पश्चिम बंगाल)