श्री कैलाश चौधरी ने किया भाकृअनुप-काजरी, जोधपुर का दौरा

12 अगस्त, 2019, जोधपुर

श्री कैलाश चौधरी,  राज्य मंत्री, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने आज भाकृअनुप-केंद्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान, जोधपुर का दौरा किया। मंत्री ने संस्थान में चल रहे अनुसंधान गतिविधियों का आकलन किया। श्री चौधरी ने वैज्ञानिकों से आग्रह किया कि वे न्यूनतम पानी की आवश्यकता और जल्दी परिपक्व होने वाली फसलों को विकसित करें, जो वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने में मदद कर सके। उन्होंने सौर पंपों के साथ वर्षा जल का उपयोग करके उच्च मूल्य वाली फसलों को उगाने का भी निर्णय लिया। मंत्री ने हाल ही में संस्थान द्वारा विकसित कुकीज़ और चॉकलेट के मूल्य वर्धित बाजरा उत्पाद लॉन्च किए। श्री चौधरी ने राजस्थान में स्थित भाकृअनुप संस्थानों के निदेशकों के साथ भी बातचीत की।

Shri Kailash Choudhary visits ICAR-CAZRI, Jodhpur Shri Kailash Choudhary visits ICAR-CAZRI, Jodhpur Shri Kailash Choudhary visits ICAR-CAZRI, Jodhpur Shri Kailash Choudhary visits ICAR-CAZRI, Jodhpur Shri Kailash Choudhary visits ICAR-CAZRI, Jodhpur

इससे पहले डॉ. ओ. पी. यादव, निदेशक, भाकृअनुप-काजरी ने अनिश्चित और बहुत कम बारिश, उच्च तापमान, कम मिट्टी की उर्वरता और अन्य सीमित संसाधनों आदि जैसी चुनौतियों पर प्रकाश डाला जिसका सामना शुष्क क्षेत्र के किसानों द्वारा किया जा रहा है।

डॉ. यादव का मत था कि पारंपरिक खेती के साथ-साथ आधुनिक तकनीक का उपयोग किसानों की आय बढ़ाने में मदद कर सकता है। किसानों के लिए यह आवश्यक है कि वे आधुनिक कृषि पद्धतियों में विविधता लाएँ और उन्हें अपनाएँ।

इस अवसर पर रोहिड़ा (टेकोमेला अंडुलाटा) के 500 से अधिक पौधों का रोपण भी किया गया।

(स्रोत: भाकृअनुप- केंद्रीय शुष्क क्षेत्र अनुसंधान संस्थान, जोधपुर)