'मत्स्यपालन क्षेत्र में उद्यमिता विकास' पर संवेदीकरण कार्यक्रम का हुआ आयोजन

17 जुलाई, 2021, हैदराबाद

भाकृअनुप-राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रबंध अकादमी, हैदराबाद के ए-आइडिया, कृषि-व्यवसाय इनक्यूबेटर ने मत्स्यपालन में आज उद्यमिता के अवसरों के बारे में जागरूक करने के लिए 'भाकृअनुप-केंद्रीय मत्स्यपालन शिक्षा संस्थान, मुंबई के छात्रों के लिए मत्स्य पालन क्षेत्र में उद्यमिता विकास' पर एक संवेदीकरण कार्यक्रम का आयोजन किया।

Sensitization Programme on “Entrepreneurship Development in Fisheries Sector” organized  Sensitization Programme on “Entrepreneurship Development in Fisheries Sector” organized  Sensitization Programme on “Entrepreneurship Development in Fisheries Sector” organized

डॉ. गोपाल कृष्ण, निदेशक और कुलपति, भाकृअनुप-सीआईएफई, मुंबई ने उद्यमिता के दृष्टिकोण से कृषि और संबद्ध क्षेत्रों के सभी विषयों को एकीकृत करने के महत्त्व पर जोर दिया।

डॉ. चौ. श्रीनिवास राव, निदेशक, भाकृअनुप-नार्म, हैदराबाद ने प्रतिभागियों से सामान्य रूप से कृषि पारिस्थितिकी तंत्र में जलवायु, समानता, आय और सतत विकास के लिए मत्स्य की अवधारणा और विशेष रूप से उद्यमिता व्यवसाय मॉडल को शामिल करने का आग्रह किया।

डॉ. एन.ए. विजय अविनाशीलिंगम, अतिरिक्त सीईओ, ए-आइडिया, भाकृअनुप-नार्म, हैदराबाद ने इनक्यूबेशन और स्टार्ट-अप उद्योग की प्रक्रिया के बारे में अवगत कराया।

श्री साई कृष्णा, सीईओ, fishyfarmers.com और एक्वापोनिक्स क्षेत्र के एक उद्यमी ने भी अपने विचार को एक सफल स्टार्ट-अप में बदलने की यात्रा के अनुभव साझा किए।

लगभग 125 छात्रों और संकाय सदस्यों ने कार्यक्रम में आभासी तौर पर भाग लिया।

(स्त्रोत: भाकृअनुप-राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रबंध अकादमी, हैदराबाद)