भाकृअनुप-सीएमएफआरआई ने किया इसरो के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

8 अप्रैल, 2019, अहमदाबाद

भाकृअनुप-केंद्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान, कोच्चि ने आज अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र (SAC), अहमदाबाद के मुख्य परिसर में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया।

 

.

ICAR-CMFRI inks MoU with ISRO  ICAR-CMFRI inks MoU with ISRO

श्री नीलेश देसाई, एसोसिएट निदेशक, एसएसी और डॉ. पी. यू. जचारिया, प्रधान वैज्ञानिक और प्रधान अन्वेषक, निक्रा परियोजना, भाकृअनुप-सीएमएफआरआई के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया। भाकृअनुप-सीएमएफआरआई की आवश्यकता के अनुसार, एसएसी वेब पोर्टल और मोबाइल ऐप विकसित करेगा।

एमओयू के अनुसार, देश भर में 5 लाख से अधिक छोटे आर्द्रभूमि के पूर्ण डेटाबेस के साथ एक मोबाइल ऐप और एक केंद्रीकृत पोर्टल को वास्तविक समय की निगरानी और आर्द्रभूमि के संरक्षण के उद्देश्य से विकसित किया जाएगा।  

यह कदम भाकृअनुप-सीएमएफआरआई के निक्रा परियोजना द्वारा मत्स्य पालन और आर्द्रभूमि पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को कम करने के तरीकों को खोजने का एक हिस्सा था। हाल ही में सीएमएफआरआई ने निक्रा परियोजना के तहत मत्स्य पालन और आर्द्रभूमि के लिए एक राष्ट्रीय ढाँचा विकसित किया।

सामान्य राष्ट्रीय पोर्टल और मोबाइल ऐप, समय-समय पर सूचना प्राप्त करने के लिए हितधारकों और जनता की मदद करने के लिए एक सामान्य डिजिटल रिपॉजिटरी में आर्द्रभूमि डेटा के अधिग्रहण और एकीकरण के लिए है। इसरो द्वारा पहले से विकसित भू-स्थानिक आर्द्रभूमि डेटाबेस को भाकृअनुप-सीएमएफआरआई आर्द्रभूमि के भौतिक, रासायनिक और जैविक मापदंडों के क्षेत्र-स्तर के इनपुट के साथ और मजबूत करेगा। भाकृअनुप-सीएमएफआरआई अन्य मत्स्य अनुसंधान संस्थानों के समर्थन के साथ; देश में अवक्रमित आर्द्रभूमि को बहाल करने के एक हिस्से के रूप में किसानों को टिकाऊ जलकुंभी के उपयोग करने में मदद करने के लिए आवधिक क्षेत्र-स्तर के आर्द्रभूमि डेटासेट जैसे, पानी की गुणवत्ता, तलछट की गुणवत्ता, जैव विविधता और प्रजातियों के स्वास्थ्य को उत्पन्न करने में मुख्य भूमिका निभाएगा।

इस प्रकार का सहयोगी पहल एक व्यापक आर्द्रभूमि सूचना प्रणाली विकसित करने में मदद करेगी, जो वैज्ञानिक समुदायों द्वारा स्थानीय लोगों को ग्रामीण स्तर के आर्द्रभूमि सलाह की सुविधा प्रदान कर सके। उत्पन्न किए गए डेटा को एसएसी सर्वर में अधिकृत वैज्ञानिक समुदायों तक पहुँच के साथ संग्रहीत किया जाएगा और भाकृअनुप-सीएमएफआरआई सहयोगी मत्स्य संस्थानों और हितधारकों द्वारा प्रस्तुत आर्द्रभूमि पर नवीनतम डेटा अपडेट को मंजूरी देने के लिए नोडल केंद्र के रूप में कार्य करेगा।

यह पहला राष्ट्रीय उदाहरण है कि एक मत्स्य संस्थान इसरो के साथ मिलकर मत्स्य और आर्द्रभूमि के लिए एक व्यापक जलवायु अनुकूल ढाँचा विकसित करने के लिए सहयोग कर रहा है। वास्तविक समय में आर्द्रभूमि की सलाह देश में छोटे आर्द्रभूमि के जलवायु प्रतिरोध को बढ़ा सकती है।

(स्रोत: भाकृअनुप-केंद्रीय समुद्री मात्स्यिकी अनुसंधान संस्थान, कोच्चि)