भा.कृ.अनु.प. संस्थानों ने मनाया कृषि शिक्षा दिवस – 2018

डॉ. राजेंद्र प्रसाद, स्वतंत्र भारत के प्रथम राष्ट्रपति और भारत रत्न के पुण्य जन्मदिन को स्मरण करते हुए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद प्रति वर्ष देश भर में 3 दिसंबर को पूरे जोश और उत्साह के साथ कृषि शिक्षा दिवस मनाता है।  

भा.कृ.अनु.प.-राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रबंध अकादमी

ICAR Institutes celebrate Agricultural Education Day - 2018

श्री वी. राम कौंडिन्या, महानिदेशक, फेडरेशन ऑफ सीड इंडस्ट्री ऑफ इंडिया, मुख्य अतिथि, भा.कृ.अनु.प.-राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रबंध अकादमी, ने अपने व्याख्यान ‘न्यू पाराडाईम इन इंडियन एग्रीकल्चर’ में कहा कि जब देश की 60% से अधिक आबादी ग्रामीण इलाकों में रहती है तो स्कूली शिक्षा के तहत ही कृषि शिक्षा के प्रचार पर जोर देना चाहिए। उन्होंने प्रतिभाशाली छात्रों से संबंधित क्षेत्र में जनशक्ति आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए कृषि शिक्षा में शामिल होने का आग्रह किया।

भा.कृ.अनु.प.-राष्ट्रीय मत्स्य आनुवंशिक संसाधन ब्यूरो

भा.कृ.अनु.प.-राष्ट्रीय मत्स्य आनुवंशिक संसाधन ब्यूरो में इस अवसर पर अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं में एक चित्रकारी और ड्रॉइंग प्रतियोगिता (थीम: छठी कक्षा के छात्रों के लिए जय जवान जय किसान जय विज्ञान और सातवीं से बारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए स्वच्छ नदियाँ सक्षम भारत) और निबंध लेखन प्रतियोगिता (थीम: 8वीं से 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए ग्लोबल वार्मिंग और एक्वाटिक लाइफ) आयोजित किया गया था।

ICAR Institutes celebrate Agricultural Education Day - 2018ICAR Institutes celebrate Agricultural Education Day - 2018

कुल मिलाकर, शहर के 9 स्कूलों के 10 शिक्षकों के साथ लगभग 55 छात्र प्रतिभागियों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया।   

भा.कृ.अनु.प.-राष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान, कटक

डॉ. एच. पाठक, निदेशक, एनआरआरआई, कटक ने संस्थान के परिसर में आयोजित 7वें कृषि शिक्षा दिवस समारोह का उद्घाटन किया। डॉ. पाठक ने संस्थान में कृषि विज्ञान के विभिन्न विषयों के महत्त्व और प्रासंगिकता के बारे में जानकारी दी और छात्रों को पूरी लगन के साथ पाठ्यक्रम का लक्ष्य प्राप्त करने और कृषि विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्टता प्राप्त हेतु अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित किया।

श्री प्रदीप मोहंती, उद्यमी ने ओडिशा के कोरापुट जिले में अपने कॉफी बागान और लाभकारी उद्यम की शुरूआत और सफलता की कहानी सुनाई।

समारोह में 'सामान्य कृषि ज्ञान' पर प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता और ‘क्या कृषि एक स्मार्ट करियर बनाने के अवसर प्रदान कर सकता है' पर बहस प्रतियोगिता जैसी विभिन्न गतिविधियाँ आयोजित की गईं। इस अवसर पर, संस्थान के अध्यक्ष ने 'कृषि के लिए युवाओं को आकर्षित करने' नामक एक शैक्षणिक बुलेटिन भी जारी किया।

विज्ञान प्रदर्शनी ने 'क्लाइमेट स्मार्ट एग्रीकल्चर' विषय पर मॉडल, चार्ट, ग्राफ और लाइव सामग्री के रूपों में विभिन्न विद्यालयों के छात्रों द्वारा विभिन्न परिवर्तनगामी विचारों का प्रदर्शन किया।

इस समारोह में शहर के 13 स्कूलों और जूनियर कॉलेजों के शिक्षकों के साथ-साथ कक्षा आठवीं से बारहवीं तक के 150 छात्रों की भागीदारी दर्ज की गई।

ICAR Institutes celebrate Agricultural Education Day - 2018

ICAR Institutes celebrate Agricultural Education Day - 2018ICAR Institutes celebrate Agricultural Education Day - 2018

भा.कृ.अनु.प.-भारतीय तिलहन अनुसंधान संस्थान, हैदराबाद

भा.कृ.अनु.प.-भारतीय तिलहन अनुसंधान संस्थान, हैदराबाद में आयोजित कृषि शिक्षा दिवस में 15 स्कूलों और कॉलेजों के कुल 1150 छात्रों और शिक्षकों की भागीदारी दर्ज की गई जिसमें उच्च माध्यमिक (कक्षा 9 और 10) और मध्यवर्ती (कक्षा 11 और 12) के छात्र भी शामिल रहे।

इस अवसर के दौरान, छात्रों को कृषि विज्ञान में करियर के सुनहरे अवसरों के बारे में जानकारी दी गई थी। छात्रों ने संग्रहालय, फसल कैफेटेरिया क्षेत्र के प्रदर्शन, तिलहन फसलों और प्रयोगशालाओं का भी दौरा किया। जबकि कक्षा 11 और 12 के छात्रों को फसल संरक्षण के पर्यावरण अनुकूल तरीकों पर एक्सपोजर प्रदान किया गया था।

तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय, कोयंबटूर के बी.एस.सी. (कृषि) के 60 छात्रों के बैच ने इस अवसर पर संस्थान का दौरा किया।

(स्रोत: भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद से संबंधित संस्थान)