भाकृअनुप-भारतीय मसाला अनुसंधान संस्थान ने लॉन्च किया “SPIISRY” – नवीन पहल

12 जुलाई, 2019, लखनऊ

भाकृअनुप-भारतीय मसाला अनुसंधान संस्थान, लखनऊ ने उपभोक्ताओं को अच्छी गुणवत्ता वाले मसाले और संबद्ध उत्पाद प्रदान करते हुए मसालों के प्राथमिक उत्पादकों का समर्थन करने के लिए 'स्पाईसरी' नाम से एक नई पहल शुरू की।

ICAR-IISR launches “SPIISRY” - A novel initiative  ICAR-IISR launches “SPIISRY” - A novel initiative

डॉ. टी. जानकीराम, सहायक महानिदेशक, (बागवानी विज्ञान- II), भाकृअनुप, नई दिल्ली ने आज यहाँ 'स्पाईसरी' का उद्घाटन किया।

डॉ. जानकीराम ने कहा कि नवाचार का मुख्य उद्देश्य अनुसंधान संस्थान द्वारा प्रमाणित उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादन के लिए उपभोक्ता पहुँच की सुविधा के माध्यम से कृषि वस्तु खुदरा विपणन क्षेत्र के विकास में एक नया अध्याय निबंधित करेगा।

डॉ. के. निर्मल बाबू, निदेशक, भाकृअनुप-आईआईएसआर; डॉ. आर. एन. पाल, पूर्व सहायक महानिदेशक (वृक्षारोपण फसलें), भाकृअनुप, नई दिल्ली; डॉ. वी. एस. कोरीकंठिमठ, पूर्व निदेशक, भाकृअनुप-सीसीएआरआई, गोवा; डॉ. श्रीकांत कुलकर्णी, पूर्व प्रोफेसर और प्रमुख (प्लांट पैथोलॉजी), कृषि विज्ञान विश्वविद्यालय, धारवाड़ सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।

सत्यापित प्राथमिक उत्पादकों, भाकृअनुप-आईआईएसआर और अन्य संबंधित संस्थानों से प्राप्त आउटलेट ग्राहकों को अच्छी गुणवत्ता वाले मूल्य वर्धित उत्पाद व मसालों की पेशकश करेगा।

वर्तमान में, 50 से अधिक उत्पाद आउटलेट पर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। मसाला, मसाला पाउडर और मसाले से बनाए गए वेलनेस उत्पाद ग्राहकों को उपलब्ध कराने के अलावा आउटलेट मसाले और अन्य फसलों की खेती के लिए प्रौद्योगिकी इनपुट भी प्रदान करेगा।

(स्रोत: भाकृअनुप-भारतीय मसाला अनुसंधान संस्थान, लखनऊ)