बायोकैप्सूल्स के माध्यम से भंडारण और पीजीपीआर/माइक्रोब्स की एक नवीन विधि

प्रौद्योगिकी

माइक्रोबियल उपभेदों के इनकैप्सुलेशन पर सफल जाँच प्रयोगशाला तक ही सीमित है। भाकृअनुप-भारतीय मसाला अनुसंधान संस्थान, कोझीकोड ने कृषि संबंधी महत्त्वपूर्ण सूक्ष्मजीवों की स्मार्ट डिलीवरी के लिए सफलतापूर्वक विकसित, क्षेत्र परीक्षण किया हुआ और व्यावसायिक इनकैप्सुलेशन प्रौद्योगिकी, बायोकैप्सुल्स (पेटेंट आवेदन संख्या: 3594 / CHE / 2013, 13-08-2013 को दायर) विकसित किया है। कृषि फसलों के वितरण के लिए मृदा पोषक विलेयीकरण, वृद्धि और उपज हेतु प्रौद्योगिकी में जिलेटिन कैप्सूल में रुचि के सूक्ष्मजीवों का इनकैप्सुलेशन शामिल है।

Commercially available capsules of SRT Agro Science Pvt Ltd, Chhattisgarh containing beneficial microorganisms for vegetables and all agri/horti crops

कैप्सूल में सूक्ष्मजीव निष्क्रिय स्थिति में  होता है, जबकि कैप्सूल को पानी में घोलकर कोशिकाओं को सक्रिय किया जा सकता है। इसको पतला किया जा सकता है और मुख्य खेत में बुवाई/रोपाई से पहले बीज या अंकुर या राइज़ोम को 30 मिनट के लिए भिगोया जाता है। शेष निलंबन का उपयोग मिट्टी की खाई के रूप में किया जा सकता है। इस इनकैप्सुलेशन तकनीक का उपयोग सभी प्रकार के महत्त्वपूर्ण सूक्ष्म जीवों, अर्थात, एन फ़िक्सर्स, पोषक तत्त्व सॉल्युबलाइज़र/मोबिलाइज़र, प्लांट ग्रोथ प्रमोशन राइज़ोबैक्टीरिया (PGPR), ट्राइकोडर्मा, बर्कहोल्डरिया इत्यादि के लिए किया जा सकता है।

लाभ:

  • फसलों को स्मार्ट और सटीक माइक्रोबियल डिलीवरी।
  • उच्च माइक्रोबियल आबादी बनाए रखता है।
  • हरित प्रौद्योगिकी, पूरी तरह से पर्यावरण के अनुकूल।
  • कम उत्पादन लागत।
  • भंडारण के साथ-साथ संभालने में आसान।
  • उच्च अचल (भंडार और उपयोग होने तक की अवधि) जीवन।
  • सामान्य तापमान पर उत्पादन और भंडारण।
  • निर्माण के लिए परिष्कृत उपकरणों की आवश्यकता नहीं है।
  • सभी महत्वपूर्ण सूक्ष्मजीवों को प्रदान करने के लिए उपयोग किया जा सकता है।

 

प्रौद्योगिकी लाइसेंसिंग और व्यावसायीकरण

  1. कोडागुअग्रिटेक, कुशालनगर, कर्नाटक

ट्राइकोडर्माज़ेरियनम और पीजीपीआर को वर्तमान में अधिकृत लाइसेंसधारी मैसर्स कोडागुअग्रिटेक, कुशाल नगर, कर्नाटक द्वारा ब्रांड नाम ट्राइकोकैप और पॉवरकैप के तहत विपणन किया जा रहा है, जो इस तकनीक के लिए पहला स्टार्ट अप लाइसेंसधारी है। अब तक तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, केरल और गुजरात में कंपनी द्वारा 100 रुपए प्रति कैप्सूल के विक्रय मूल्य पर 30,000 से अधिक कैप्सूल सफलतापूर्वक बेचे गए हैं।

Trichocap and Powercap, the two branded products of Trichodermaharzianum MTCC 5179 and PGPR marketed by our licensee M/s CodaguAgritech, Kushalnagar, Codagu, Karnataka  Trichocap and Powercap, the two branded products of Trichodermaharzianum MTCC 5179 and PGPR marketed by our licensee M/s CodaguAgritech, Kushalnagar, Codagu, Karnataka

  1. एसआरटी एग्रो साइंस प्रा. लिमिटेड, दुर्ग, छत्तीसगढ़

 

एसआरटी एग्रो साइंस प्राइवेट लिमिटेड छत्तीसगढ़ द्वारा जनवरी, 2018 में इस तकनीक का लाइसेंस 2007 में शुरू हुई एक जैव उर्वरक/बायोपेस्टीसाइड निजी कंपनी को भी दिया गया था।

(स्रोत: भाकृअनुप-भारतीय मसाला अनुसंधान संस्थान, कोझीकोड)