ओडिशा में चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों के लिए किया गया पशु स्वास्थ्य-सह-जागरूकता शिविर का आयोजन

6 जून, 2019, कोलकाताAnimal Health-cum-Awareness Camp for in Cyclone affected areas in Odisha organized

भाकृअनुप-भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, कोलकाता के पूर्वी क्षेत्रीय स्टेशन के वैज्ञानिकों ने आज ओडिशा के पुरी जिले में सत्यबाड़ी ब्लॉक के बाघोलपुर गाँव में पशु स्वास्थ्य-सह-जागरूकता शिविर का आयोजन किया।

शिविर का आयोजन पशु रोग अनुसंधान संस्थान (ADRI), ओडिशा सरकार के सहयोग से किया गया था।

भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान की टीम ने स्थिति का आँकलन करते हुए किसानों द्वारा सामना की जा रही विभिन्न चुनौतियों और समस्याओं का समाधान किया। पशुओं के स्वास्थ्य को जल्द से जल्द बहाल करने के लिए किसानों को विभिन्न उपायों के बारे में अवगत कराया गया।

डॉ. महेश चंदर, संयुक्त निदेशक (विस्तार शिक्षा) के नेतृत्व में आईवीआरआई की टीम ने आईवीआरआई के अधिकारियों की ओर से एडीआरआई अधिकारियों को पीपीआर के निदान और निगरानी के लिए एलिसा किट भी प्रस्तुत किया। एलिसा किट में 200 नमूनों के परीक्षण के लिए पीपीआर एंटीजन डिटेक्शन (सैंडविच एलिसा) किट और बकरियों और भेड़ों के 2,000 नमूनों के परीक्षण के लिए एंटीबॉडी डिटेक्शन (प्रतिस्पर्धी एलिसा) किट शामिल था।

इस अवसर के दौरान मेहमान टीम ने प्रयोगशाला निदान के लिए नमूने एकत्र किए और भविष्य में कार्रवाई के लिए किसानों को सलाह दिया।

किसानों को पशुधन के लिए खनिज मिश्रण के वितरण के अलावा प्रभावित घरों के स्वामित्व वाले जानवरों की जाँच की गई, उनका इलाज किया गया और दवाइयाँ प्रदान की गईं।

इस अवसर पर पशुपालन विभागों के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे।

(स्रोत: भाकृअनुप-भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, कोलकाता, पूर्वी क्षेत्रीय स्टेशन)